सोमवार, 7 अगस्त 2017

निरायमय संचेतना का आधार


समाज में जिस तरह के नकारात्मक परिवर्तन आये है । उस आधार पर विधि-व्यवस्था और मानव के विचार एवं जीवनशैली भी नकारात्‍मकता का आकार ग्रहण कर चुंकी है। शायद यही विकास और विकसित होने की परिभाषा है। इस परिभाषा ने क्या क्या नहीं बदला हैं ? ...मन भी बदला हैं। माथा भी बदला हैं और देखते देखते इस धरती की काया भी बदल ड़ाली है। 

भोग-बहुभोग की लालसा  ने मानव को उत्तरोत्तर अभाव की मानसिकता के घेरों में सिमट लिया है। चारो तरफ लुट मची है। जल प्रवाह सिकुड रहे हैं। जंगलों का दायरा सिमट रहा हैं। जुगून-पंतगे-केंचुए सब कही खो से रहें हैं। बहुमूल्य वनस्पतीयांजीव-जंतुओं की प्रजातियां विलुप्त हो रही हैं। साथ ही साथ अंतरिक खुशहाली का अनुभव भी गुम हो रहा है। बच गया हैतो वह है.. नैसर्गिक संसाधनों की कमी का आभास और भोग-अतिभोग के लिए प्रतिस्पर्धा और प्रतिहिंसा के साथ साथ उपभोग के नये-नये रास्तों और नये-नये उपकरणों का निजात।

एक तरफ असिम संग्रह है और दूसरी ओर अभाव ग्रस्तों का संघर्ष। एक तरफ प्राकृतिक संसाधनों की कमी का आभास है और दूसरी ओर भोग-बहुभोग हेतु कृत्रिम उपभोग के उपकरणों का सजता अंबार है। जिससे न हवा शुद्ध रहीन सिकूडते जल प्रवाहन जंगलों का अस्तित्वन जानवरों का वजुद और अब तो न आकाश पाक-साफ बचा है। यह स्थिति ऐसी मानसिकता का परिचय देती है जो निश्चित ही स्वस्थ्य नहीं है। ऐसी रूग्न मानसिक स्थिति वाले समाज का संज्ञान क्या होगा ? यह प्रश्न कम और मानव के वजूद पर गहराता संकट अधिक है।

इसी संकट का उभरा हुआ एक रूप है और वह है मानव समाज के तन और मन का स्वास्थ्य। अवलोकन करता हूँ तो देखता हूँ कि समाज में स्वास्थ्य की समस्या दिनों दिन विस्तार ले रही हैं। कारणों की मीमांसा की जाये तो अधिकतर बिमारियां सोच-विचार और जीवनशैली से आसन्न रोगों का प्रतिरूप प्रकट होती है। उनसे निजात पाने अनेक शोध हो भी रहे है। किन्तु बाजार के आधार पर स्वास्थ्य और स्वस्थ रहने की प्रक्रिया को जहां विकसित किया गया हैवहा जनहित की तार्किकता को महत्व देते हुएउने बाजार का हिस्सा बनने से कैसे बचाया जायेगा ? यह प्रश्न भी रह रह कर मेरे मन में उठता रहा है।

निश्चित ही हमारे समाज का शरीर और चेतना दोनों स्वस्थ नहीं है। मृतकों और मुच्र्छितों का सौभाग्य ही है कि उनें अज्ञान और अस्वास्थ्य पीड़ा नहीं देता। किन्तु समाज में कुछ ऐसे भी लोक मौजुद है जिनकी चेतना अभी जागृत है। वह समाज के अज्ञान और अस्वास्थ्य से पिडित होते है। ऐसे ही लोगों के साथ मैंने 22, 23, 24 फरवरी 2013 को ग्वालियर के प्राकृतिक परिवेश में एक संगोष्‍ठी का आयोजन किया था। ‘प्राकृतिक स्वस्थ्य जीवनशैली और पर्यावरण’ यह  इय संगोष्‍ठी का विषय था। संगोष्‍ठी का उद्देश्य था कि "सजीव सृष्टी पर मंडराते संकट और मानव के मनोदैहिक स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान हमारे सोचनेसमझनेपरखने और जीवन की मौजुद शैली के बदलाव में है" यह प्रतिपादित करना था। इसलिए इस संगोष्‍ठी/सेमिनार में बाह्य पर्यावरण के बदलाव की अपेक्षा अंतरिक अर्थात मन और माथा के पर्यावरण के बदलाव पर विस्‍तार से विमर्श हुआ।

आधुनिकता की ललक क्रमिक रूप से मानव को प्राकृतिक विचारधारा और प्राकृतिक जीवनशैली से दूर ले जा रही हैवहा स्वास्थ्य का संकट अधिक गहरा रहा हैं। ऐसी स्थितिओं में मानव और प्रकृति के मध्य सहअस्तित्व का जो संबंध है उसे जाननेसमझनेपरखने और तद् अनुरूप जीने की आवश्यकता को अनुभव करवाने के लिए यह एक संवाद था। यह संवाद सफल भी रहासार्थक भी रहा और इस प्रकार के संवाद की पुन: मांग भी रही।

इस संवाद को आगे जारी रखने के उद्देश्‍य से इस ब्लॉग का उद्द्याटन हुआ है। योगआयुर्वेद एवं प्राकृत उपचार के साथ साथ योगविद्या की अनुसंशा एवं दर्शनों की मनोदृष्‍टी का विश्‍लेषण करते हुएजन-सामन्यों में प्राकृतिक रूप से स्वस्थ और वैज्ञानकि रूप से निरामय जीवन का अवसर प्रदान करने का यहा एक प्रामाणिक प्रयास किया जा रहा है। निश्चित यह ब्लॉग आप सभी के लिए उपयोगी होगाइस मंगल कामना के साथ। इस ब्लॉग का यह प्रथम अध्‍याय प्रस्‍तावना के रूप में प्रस्‍तुत हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आलोचनात्मक सेवाओं और जिज्ञासाओं का स्वागत हैं।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...